अनुसंधान क्या है इसकी आवश्यकता क्यों है और इसकी परिभाषा

अनुसंधान शब्द की उत्पत्ति एक ऐसे शब्द से हुई है, जिसका अर्थ सब दिशाओं में जाना अथवा खोज करना है।

Resarch शब्द स्वयं दो शब्दों से मिलकर Re+Search से मिलकर बना है। शोद शब्द से भी ऐसे सम्मिलित अर्थ का बोध होता है।

जिसका उद्देश्य खोज की पुनरावृति होती है। अर्थात एक अन्वेषण इंक्वायरी होती है। Ji का अर्थ और गहनता है जबकि सर्च का तात्पर्य खोज करना है।

इस प्रकार रिसर्च का अर्थ तत्वों की आवर्त आत्मक और गहनता से खोज करना है। अनुसंधान एक ऐसा व्यवस्थित एवं नियंत्रित अध्ययन है।

जिसके अंतर्गत संबंधित विचारों व घटनाओं के पारस्परिक संबंधों का अन्वेषण तथा विश्लेषण उपयुक्त विधि के द्वारा किया जाता है।

तथा प्राप्त परिणामों से वैज्ञानिक निष्कर्षों नियमों तथा सिद्धांतों की रचना खोज एवं पुष्टि की जाती है। इसका अध्ययन वैज्ञानिक पद्धतियों द्वारा पूर्व स्थापित तथ्यों, नियमों, सिद्धांतों की विश्वसनीयता परिशुद्धता तथा वैधता का पुनः परीक्षण पुष्टिकरण करना होता है।

उसमें यथासंभव नए संबंधों की स्थापना करना होता है। इस प्रकार अनुसंधान द्वारा प्राप्त ज्ञान विशुद्ध संगठित तथा क्रमबद्ध होता है।

मनुष्य जन्म से ही जिज्ञासु प्राणी है वह सदैव अज्ञान के प्रति यह जानने को प्रयत्नशील रहा कि अज्ञात वस्तु क्या है।

वह कैसे विकसित हुई है। किसी प्रवृत्ति के कारण वह नवीन वस्तुओं की खोज करने हेतु भी तत्पर रहता है।

जैसे-जैसे मानव में सामाजिक विकास और सभ्यता का विकास होता गया वैसे वैसे जिज्ञासा भी बढ़ती गई रिसर्च का अर्थ नवीन ज्ञान की प्राप्ति हेतु किया जाने वाला व्यवस्थित प्रयास है।

यह प्रयास सामान्यतः वैज्ञानिक पद्धति द्वारा किया जाता है। अतः हम कह सकते हैं कि रिसर्च किसी क्षेत्र विषय से संबंधित प्रॉब्लम का सर्वांगीण विश्लेषण है।

समस्या से प्रायः जिज्ञासा होती है जिज्ञासा का उदय होना ही अनुसंधान की आधारशिला का रखा जाना होता है। अनुसंधान को वास्तविक उद्देश्य से किया जाता है।

इस बात का कोई निश्चय नहीं है कि जो संकलित सूचनाएं किसी रिसर्च द्वारा प्राप्त की गई हैं, वे उपयुक्त और विश्वसनीय नहीं होंगी। लेकिन उपयुक्त और विश्वसनीय होने के मुख्य तीन कार्य हैं।

किसी नए तथ्य सत्य की खोज करना
पुराने स्थापित तथ्यों की पुनः खोज कर उनका सत्यापन स्थापित करना। डाटा में महत्व नए संबंधों को स्पष्ट करना।

अनुसंधान की परिभाषाएं-

अनुसंधान की कोई सर्वमान्य व्याख्या नहीं की जा सकती। सामान्यता रिसर्च का अर्थ किसी समस्या के निराकरण के लिए व्यक्ति निरपेक्ष विधियों के आधार पर समस्या का प्रसांगिक तथा पक्षपात रहित उत्तर कई विद्वानों व मनोवैज्ञानिकों ने परिभाषाएं इस प्रकार से की है।

पीएफ को के अनुसार अनुसंधान की परिभाषा- अनुसंधान एक ऐसा निरपेक्ष व्यापक तथा बौद्धिक अन्वेषण है जिसमें एक दी गई समस्या से संबंधित तथ्यों तथा अर्थों अथवा संबंधों का अध्ययन किया जाता है।

जेडब्ल्यू बेस्ट के अनुसार अनुसंधान की परिभाषा – अनुसंधान से अधिकतर विवेचन की वैज्ञानिक पद्धति के उपयोग के क्रमबद्ध नियम तथा ज्ञान प्रक्रम का पता लगता है।

इसमें अन्वेषण के लिए एक अधिक व्यवस्थित सरचना अंतर्निहित रहती है जिसके कारण उनमें अध्ययन की प्रक्रियाओं तथा परिणामों अथवा निष्कर्षों के प्रतिवेदन का एक प्रकार का नियमबद्ध अभिलेख रहता है।

एल वी रेड मैन के अनुसार अनुसंधान की परिभाषा – अनुसंधान नवीन ज्ञान प्राप्त करने के लिए एक व्यवस्थित प्रयत्न है।

पी एम कुक के अनुसार अनुसंधान एक ऐसा निरपेक्ष व्यापक तथा बौद्धिक अन्वेषण है जिसमें एक दी गई समस्या से संबंधित तथ्यों तथा उनके अर्थ अथवा संबंधों का अध्ययन किया जाता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!