सिर दर्द – लक्षण | कारण | शुद्धि क्रिया | योगासन | प्राणायाम | आहार

सिर दर्द क्या है (माइग्रेन) : यह तंत्रिका तंत्र का रोग है यह तंत्रिका तंत्र के ठीक से कार्य न करने के कारण होता है। इसमें सिर में बहुत ही असहनीय दर्द होता है। जो आपके पूरे शरीर को प्रभावित करता है। मस्तिष्क में पूरी तरह से रक्त प्रवाह न होने के कारण भी यह होता है।

तेज रफ्तार से चलती दुनिया में सबसे आम बीमारी सिर दर्द  है। शायद ही कोई दुनिया में ऐसा व्यक्ति होगा जिसने सिर दर्द की पीड़ा का अनुभव ना किया हो। सभी लोग इस समस्या को आम समझते हैं। लेकिन यह बढ़ जाने पर माइग्रेन जैसे घातक समस्या का रूप ले लेती है और जैसे इससे ब्रेन ट्यूमर जैसी घातक बीमारियां भी हो सकती हैं।

सिर दर्द के क्या लक्षण है

1.सिर में बहुत भारीपन होना ।
2. चक्कर आना ।
3.बुखार की शिकायत होना ।
4.आंखों में दर्द होना आंखों में भारीपन होना। 5.आधे सिर में बहुत तेज पीड़ा होना।
6.जुकाम की शिकायत होना।
7.तंत्रिका तंत्र के ठीक से कार्य न करने के कारण नसों में दर्द होना ।
8. दर्द बढ़ने के कारण बुखार की समस्या होना ।
9.दिमाग में दर्द बढ़ने के कारण बुखार की स्थिति उत्पन्न होना । यह सिर दर्द के लक्षण है।

सिर दर्द के क्या कारण है

  1. पारिवारिक तनाव के कारण भी हो सकता है ।
  2. हर समय कुछ ना कुछ सोचते रहने के कारण भी हो सकता है ।
  3. पेट के अंदर आंतरिक गड़बड़ी के कारण भी हो सकता है ।
  4. अमाशय अम्ल के कारण भी सिरदर्द की समस्या हो सकती है ।
  5. पेट में लगातार कब्ज बने रहना ।
  6. आंखों के कमजोर होने के कारण भी सिरदर्द की समस्या हो सकती है ।
  7. जुखाम बुखार एलर्जी के कारण भी हो सकता है ।
  8. अत्यधिक तले भुने पदार्थों के कारण पेट में गैस बनने के कारण हो सकता है ।
  9. लगातार मोबाइल लैपटॉप इलेक्ट्रॉनिक चीजें के इस्तेमाल से भी समस्या बढ़ती है।
  10. रात्रि देर तक जागे रहने पर भी माइग्रेन की समस्या बढ़ती है ।
  11. नींद ना पूरी होने के कारण भी हो सकता है।


सिर दर्द के लिए योग चिकित्सा क्या है

इस को ठीक करने के लिए आसन ,प्राणायाम, ध्यान ,शुद्धि क्रिया करना योग में जरूरी है । इससे ही चिकित्सा होती है साथ ही खानपान पर भी विशेष ध्यान देना चाहिए।

सिर दर्द के लिए शुद्धि क्रिया क्या है

कपालभाती ,जल नेति, सूत्र नेति, व धौति माइग्रेन के लिए लाभदायक है।

सिर दर्द के लिए कौन कौन से आसन है?

पवनमुक्तासन ,सूर्य नमस्कार करें, हस्तोत्तानासन, शीर्षासन ,सर्वांगासन, पश्चिमोत्तानासन इत्यादि का अभ्यास सामर्थ्य अनुसार करें ।

सिर दर्द के लिए कौन कौन से प्राणायाम करे ?

भस्त्रिका सामर्थ्य अनुसार करें , नाड़ी शोधन, हल्का भ्रामरी, ध्यान करें ,उद्गीथ प्राणायाम करें ,योग निद्रा करें ।

सिर दर्द में क्या आहार (भोजन) ले

सदैव शाकाहारी भोजन ही करें , ताजे फल और सब्जियां ले । समय पर भोजन करें ,भारी पदार्थ ना लें खासकर बाहरी चीजें, गरिष्ठ भोजन का इस्तेमाल कम करें जैसे -तेल ,मसाले ,पकौड़ी ,समोसे, मैदा शरीर के लिए हानिकारक है । शराब इत्यादि वर्जित है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!