टॉन्सिल – कारण | लक्षण | योग | आहार

टॉन्सिल – हमारे मुख के पीछे वाले भाग में जहां दोनों नलिया भोजन नली और वायु नली आपस में मिलती है, वहां पर टॉन्सिल होता है। यह हमारे जीभ के दोनों तरफ होता है । गले में सूजन, दर्द होना, यह बच्चों एवं किशोरों में अधिक होता है। इसकी पीड़ा बहुत असहनीय होती है । यह सही आहार न लेने पर होता है। आईये जानते है टॉन्सिल के मुख्य कारण, लक्षण, योगासन, प्राणायाम, शुद्धी क्रिया और आहार 

टॉन्सिल के कारण

  • यह कब्ज के कारण भी होती है।
  • बुखार के कारण भी गले में दर्द होता है।
  • यह ज्यादातर गलत खानपान की वजह से होती है।
  • यह अत्यधिक ठंडी चीजें लेने से भी होती है।
  • ठंड में शरीर के भीगे रहने पर भी होता है ।
  • शरीर में कफ की अधिकता से भी होती है।
  • ज्यादातर खट्टे पदार्थों के सेवन से भी टॉन्सिल्स होती हैं।
  • अत्यधिक गरिष्ठ पदार्थ लेने से व मैदा युक्त चीजें खाने से भी होता है ।

टॉन्सिल के लक्षण

  1. हल्का बुखार रहना ।
  2. गला दर्द होना ।
  3. शरीर में थकावट महसूस होना ।
  4. खाना खाते समय गले में दर्द ।
  5. गले में खराश होना ।
  6. थूक निगलने में भी दर्द होना ।
  7. मोटी आवाज आना ।
  8. कब्ज की शिकायत बनी रहना ।
  9. गले में सूजन होना।

टॉन्सिल में चिकित्सा

गरम पानी का उपयोग करें, गले में कफ न बनने दें, संतुलित आहार लें, यदि गले में ज्यादा ही दर्द हो तो डॉक्टर की सलाह पर औषधि ले , अपने सेहत का ध्यान रखें, अत्यधिक ठंडी चीजों के सेवन से बचें , खट्टे पदार्थों का सेवन ज्यादा ना करें घी , मक्खन, दही आदि खाने के बाद गर्म जल अवश्य पिए।

टॉन्सिल में शुद्धि क्रिया

गर्म पानी में हल्का नमक डालकर उसे दिन में दो से तीन बार गरारे करें। गले की सिकाई से भी काफी आराम मिलता है। नेति क्रिया अवश्य करें।

टॉन्सिल के लिए आसन

  • सूर्य नमस्कार करें 8 से 10 बार अगर कठिनाई न हो तो
  • सिंहासन – गले के लिए लाभकारी है
  • त्रिकोणासन –
  • गरुड़ासन
  • ताड़ासन आदि कर सकते हैं।

टॉन्सिल के लिए प्राणायाम – शीतली, शीतकारी, उज्जाई , नाड़ी शुद्धि, ध्यान आदि करें।

टॉन्सिल में आहार


फलों का सेवन करें ,दूध, दही ,मक्खन, पनीर ,आदि का उपयोग के बाद गर्म पानी अवश्य लें । अंकुरित दालों का सेवन करें। भोजन को आवश्यकता अनुसार ही करे सीमित आहार ग्रहण करें। हल्का भोजन करें , ताजे फल, सब्जियां व सात्विक आहार लें।

टॉन्सिल में क्या नहीं खाना चाहिए

लहसुन ,प्याज को ज्यादा ना भूने।
तेल से बनी चीजों का उपयोग ना करें।
ज्यादा मैदा युक्त चीजें न खाएं, जैसे -समोसे , नुडल्स, स्प्रिंग रोल इत्यादि।

Leave a Comment

error: Content is protected !!