मेरा वक्त बदल रहा है | Time Will Change Hindi Poem

 माना कि आज  मेरा वक्त नहीं पर 
इसका मतलब यह नहीं 
इस रात के बाद सुबह ही नहीं 
आज घोर अंधकार है पर
बदलेगा मेरा वक्त मुझे आशा है
संघर्ष जिंदगी शब्द की परिभाषा है 
खो ना जाए भीड़ में अपने
टू टूट ना जाए मीठे से सपने
छूटे न साथ कभी अपनों का
टूटे ना घर कभी सपनों का
रहे साथ हमेशा मेरे अपने 
बस यही एक अभिलाषा है
मुश्किल है सफर अज्ञात राहें
बदलता वक्त भटकती निगाहें
बदलते वक्त में जीना मुश्किल
संघर्ष भरा जीवन और नादान दिल
है बाधाएं सैकड़ों जीवन में
है हजारों उलझने मन में
फिर भी है आशा की किरण
निराशाओ ने पूरी तरह घेरा नही
है कोई लो जिंदा खामोशी में
संपूर्ण मानसिक धरातल पर अंधेरा
माना कि आज मेरा वक्त नही
पर इसका मतलब यह नहीं
कि इस निशा का सवेरा नहीं

Leave a Comment

error: Content is protected !!